नामवर सिंह नहीं रहे

19 फरवरी की रात 11:30 बजे हिन्दी के शिखर विद्वान नामवर सिंह नहीं रहे. उनका देहावसान एक युग का अवसान है. 92 वर्ष से अधिक की अवस्था में भी, और साहित्यिक सक्रियता के अत्यंत सीमित हो जाने के बावजूद, वे … Continue reading

अर्चना वर्मा के निधन पर

रविवार, तारीख़ 17/02/2019 को विदुषी और रचनाकार अर्चना वर्मा के अप्रत्याशित निधन से हम सभी स्तब्ध हैं. वे कुछ वर्ष पहले दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस से सेवानिवृत्त हुई थीं. उनकी पहचान एक समर्थ रचनाकार, आलोचक और सम्पादक के रूप … Continue reading

आनंद तेलतुम्बड़े के बारे में साझा बयान

आज, तारीख़ 29 जनवरी/2019 को जलेस के केंद्रीय कार्यालय में जन संस्कृति मंच, दलित लेखक संघ, न्यू सोशलिस्ट इनीशिएटिव, रमणिका फाउंडेशन, साहित्य वार्ता, प्रगतिशील लेखक संघ और जनवादी लेखक संघ के प्रतिनिधियों की एक सभा ने यह बयान जारी किया: … Continue reading

दिवंगत कृष्णा जी को नमन

नयी दिल्ली, 25 जनवरी : हमारी भाषा की अप्रतिम गद्यकार कृष्णा सोबती का इंतकाल साहित्यप्रेमियों और लेखकों को शोक-संतप्त कर देने वाली सूचना है. वे दिल्ली के सफदरजंग स्थित आर्षलोक अस्पताल में भर्ती थीं जहां आज सुबह 8-30 बजे उन्होंने … Continue reading

क़ाज़ी अब्दुल सत्तार नहीं रहे

नयी दिल्ली ः 29 अक्टूबर ः  उर्दू के नामचीन अदीब, पद्मश्री क़ाज़ी अब्दुल सत्तार साहब का इंतकाल हिंदी-उर्दू की अदबी दुनिया और तरक्क़ीपसंद-जम्हूरियतपसंद तहरीक के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है. वे 85 वर्ष के थे. उनके उपन्यासों में से … Continue reading

स्मृति-शेष श्री विष्णु खरे को सादर नमन

स्मृति-शेष श्री विष्णु खरे को  सादर नमन नयी दिल्ली  :19 सितंबर :  विष्णु खरे जी का जाना हिंदी की साहित्यिक-बौद्धिक दुनिया के लिए बहुत गहरा आघात है। कई दिनों से दिल्ली के जी बी पंत अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष … Continue reading

जयपुर कार्यशाला

जयपुर कार्यशाला      :   (30 सितंबर-2 अक्टूबर 2018) कार्ल मार्क्स की दो सौवीं जयंती के अवसर पर *रचना-प्रक्रिया और विचारधारा*  कार्यशाला के सत्रों की रूपरेखा 30 सितंबर, रविवार 11.00-1.30 बजे कार्यशाला स्थल पर प्रतिभागियों का पंजीकरण, कक्ष-आवंटन तथा … Continue reading

समीन अहमद के ख़िलाफ़ अभियान

महाभारत के अध्येता और विशेषज्ञ, बंगाली लेखक समीन अहमद के ख़िलाफ़ हिंसक सांप्रदायिक अभियान चलानेवालों पर कड़ी कार्रवाई हो नयी दिल्ली :  8 सितंबर : सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के उद्देश्य से हिंदुत्ववादी ताक़तें जिन कारगुज़ारियों में मुब्तिला रहती हैं, उन्हीं में … Continue reading

अपील

अपील लेखकों, बुद्धिजीवियों, कलाकारों के नाम चलो जंतर मंतर 5 सितंबर 2018 सुबह 9:30 बजे भारत के लाखों मज़दूर, किसान और दलित शोषित अवाम आ रहे हैं दिल्ली एक ऐतिहासिक विशाल रैली में, उस शोषण और जुल्मोसितम के ख़िलाफ़ जो … Continue reading

झूठे आरोपों के तहत बुद्धिजीवियों की गिरफ्त़ारियां

नयी दिल्ली : 28 अगस्त : पहली जनवरी को हुई भीमा-कोरेगांव की भयावह दलित-विरोधी हिंसा के बाद से पुणे पुलिस असली गुनहगारों को पकड़ने के बजाय लगातार मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को निशाना बना रही है। 6 जून को उसने छह मानवाधिकार … Continue reading