जलेस केंद्रीय बैठक का प्रस्ताव

केंद्रीय कार्यालय : खसरा 258, लेन नं. ३, चम्पा गली, वेस्ट एंड मार्ग, सैदुल्लाजाब, साकेत मैट्रो स्टेशन के पास, नयी दिल्ली-110030 22/09/2019 को संपन्न हुई बैठक में जनवादी लेखक संघ की केन्द्रीय परिषद् ने जनतंत्र पर हो रहे हमलों के … Continue reading

चार लेखक संगठनों का बयान

नयी दिल्ली : 29 जुलाई 019  लेखक-कलाकार हमेशा से सत्ता के विरोध में रहे हैं, लेकिन मोदीराज में सत्ता के विरोध का विरोध एक स्थायी रुझान बनता जा रहा है| जब 2015 में लेखकों-कलाकारों-वैज्ञानिकों ने अपने पुरस्कार लौटा कर सत्ताधारी … Continue reading

रमणिका गुप्ता जी नहीं रहीं

नयी दिल्ली : 26 मा र्च : रमणिका गुप्ता जी का निधन हिन्दी भाषा और हिन्दी-उर्दू प्रदेश की तरक्क़ीपसंद-जम्हूरियतपसंद तहरीक़ के लिए एक बड़ा सदमा है. आज दिल्ली के मूलचंद अस्पताल में दोपहर बाद ३:०० बजे उनका इंतकाल हुआ. आनेवाली … Continue reading

लेखक संगठनों की अपील

लेखक संगठनों की ओर से मतदाताओं से अपील एक बार फिर आम चुनाव सामने हैं। और ठीक पांच साल पहले जिन हाथों में केंद्र की सत्ता सौंपी गयी थी, उनकी जनविरोधी कारगुज़ारियाँ भी हमारे सामने हैं। ये पांच साल इस … Continue reading

नामवर सिंह नहीं रहे

19 फरवरी की रात 11:30 बजे हिन्दी के शिखर विद्वान नामवर सिंह नहीं रहे. उनका देहावसान एक युग का अवसान है. 92 वर्ष से अधिक की अवस्था में भी, और साहित्यिक सक्रियता के अत्यंत सीमित हो जाने के बावजूद, वे … Continue reading

अर्चना वर्मा के निधन पर

रविवार, तारीख़ 17/02/2019 को विदुषी और रचनाकार अर्चना वर्मा के अप्रत्याशित निधन से हम सभी स्तब्ध हैं. वे कुछ वर्ष पहले दिल्ली विश्वविद्यालय के मिरांडा हाउस से सेवानिवृत्त हुई थीं. उनकी पहचान एक समर्थ रचनाकार, आलोचक और सम्पादक के रूप … Continue reading

आनंद तेलतुम्बड़े के बारे में साझा बयान

आज, तारीख़ 29 जनवरी/2019 को जलेस के केंद्रीय कार्यालय में जन संस्कृति मंच, दलित लेखक संघ, न्यू सोशलिस्ट इनीशिएटिव, रमणिका फाउंडेशन, साहित्य वार्ता, प्रगतिशील लेखक संघ और जनवादी लेखक संघ के प्रतिनिधियों की एक सभा ने यह बयान जारी किया: … Continue reading

दिवंगत कृष्णा जी को नमन

नयी दिल्ली, 25 जनवरी : हमारी भाषा की अप्रतिम गद्यकार कृष्णा सोबती का इंतकाल साहित्यप्रेमियों और लेखकों को शोक-संतप्त कर देने वाली सूचना है. वे दिल्ली के सफदरजंग स्थित आर्षलोक अस्पताल में भर्ती थीं जहां आज सुबह 8-30 बजे उन्होंने … Continue reading

क़ाज़ी अब्दुल सत्तार नहीं रहे

नयी दिल्ली ः 29 अक्टूबर ः  उर्दू के नामचीन अदीब, पद्मश्री क़ाज़ी अब्दुल सत्तार साहब का इंतकाल हिंदी-उर्दू की अदबी दुनिया और तरक्क़ीपसंद-जम्हूरियतपसंद तहरीक के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है. वे 85 वर्ष के थे. उनके उपन्यासों में से … Continue reading

स्मृति-शेष श्री विष्णु खरे को सादर नमन

स्मृति-शेष श्री विष्णु खरे को  सादर नमन नयी दिल्ली  :19 सितंबर :  विष्णु खरे जी का जाना हिंदी की साहित्यिक-बौद्धिक दुनिया के लिए बहुत गहरा आघात है। कई दिनों से दिल्ली के जी बी पंत अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष … Continue reading